महानिदेशक की कलम से

महानिदेशक
श्री एम ए गणपति, आईपीएस
महानिदेशक

राष्ट्रीय सुरक्षा गारद (एनएसजी)- “एक विश्वस्तरीय शून्य त्रुटिविहीन बल” जिसमें सेना, केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और राज्य पुलिस बलों के चुनिंदा अधिकारी एंव कार्मिक शामिल हैं, का नेतृत्व करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है, यह मेरे लिए अत्यन्त गर्व एवं सम्मान की बात है । एनएसजी ने वर्ष 1984 में अपनी स्थापना से ही उत्कृष्ट एवं विशिष्ट बल के रूप में राष्ट्र को निःस्वार्थ भाव से सेवाएं प्रदान की हैं । राष्ट्रीय सुरक्षा गारद ने अपनी समर्पण भावना, कठोर प्रशिक्षण और ऑपरेशन संबंधी उपलब्धियों के माध्यम से अपने आपको एक सशक्त बल के रुप में स्थापित किया है । एनएसजी के ब्लैक कैट कमांडो को जब भी, जहां भी तैनात किया गया है, उन्होंने दिए गए कर्तव्यों को बड़े उत्साह एवं साहस के साथ निष्पादित किया है ।

राष्ट्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने तथा अपने आदर्श वाक्य “सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा” के अनुरूप हर प्रकार की चुनौतियों से निपटने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा गारद सदैव तत्पर है ।











महानिदेशक के बारे में

श्री एम. ए. गणपति, आईपीएस ने दिनांक 18 मार्च, 2021 को राष्ट्रीय सुरक्षा गारद के महानिदेशक का पदभार ग्रहण किया । श्री गणपति उत्तराखण्ड कैडर के 1986 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी हैं ।

श्री एम ए गणपति ने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज, चेन्नई से अर्थशास्त्र में स्नातक (1984) और जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से इंटरनेशनल स्टडीज में स्नात्तकोत्तर (1986) तथा दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलबी (2007) किया है ।

श्री गणपति ने अपनी 34 वर्षों की सेवा के दौरान सोनभद्र, हरदोई, नैनीताल, मेरठ, कानपुर, इलाहाबाद आदि जिलों सहित उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में पुलिस अधीक्षक और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के रुप में अपनी सेवाएं दी हैं उन्होंने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) में भी पुलिस अधीक्षक, स्पेशल क्राइम ब्रांच, दिल्ली और उप महानिरीक्षक एंटी-करप्शन-।, दिल्ली के रुप में अपनी सेवाएं दी । उन्होंने उत्तराखण्ड में पुलिस महानिदेशक, क्राइम/लॉ एण्ड आर्डर, महानिरीक्षक, गढ़वाल और महानिरीक्षक, महाकुंभ-2010 आदि पदों पर अपनी सेवाएं दी हैं । श्री एम.ए. गणपति ने गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (लेफ्ट विंग) एक्सट्रेमिज्म और संयुक्त सचिव (आंतरिक सुरक्षा) के पदों पर भी कार्य किया है । वे केंद्रीय औद्यौगिक सुरक्षा बल में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर भी रहे और इस दौरान अपर महानिदेशक/ स्पेशल महानिदेशक, एयरपोर्ट सेक्टर के रुप में काम किया ।

श्री एम ए गणपति के पास वामपंथी उग्रवाद सहित विविध पुलिस समस्याओं से निपटने का अनुभव है।

श्री एम.ए. गणपति वर्ष 2016-2017 के दौरान उत्तराखण्ड पुलिस के महानिदेशक रहे और महानिदेशक, राष्ट्रीय सुरक्षा गारद के रुप में नियुक्ति से पूर्व 2020-2021 के दौरान महानिदेशक, नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के पद पर कार्यरत रहे ।

श्री एम.ए. गणपति नेशनल डिफेंस कॉलेज, नई दिल्ली में 2006 के दौरान छात्र रहे हैं । उन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा 2012 में ‘नेगोसिएशन’ विषय पर आयोजित प्रोग्राम में भाग लिया और हावर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित 21 वीं सदी-अराजकता, संघर्ष और साहस प्रोग्राम में भी भाग लिया ।

श्री एम. ए. गणपति को वर्ष 2002 में सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक तथा वर्ष 2010 में विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया ।